31 July 2014

एक तुम्हारा साथ क्या मिला सारे तीरथ धाम हो गये - मधु प्रसाद

एक तुम्हारा साथ क्या मिला
सारे तीरथ धाम हो गये
छन्द, बिना लय-ताल-सुरों के –
वेद ऋचा औ साम हो गये

अनगिन शैल-प्रवाल बह गये
एक तुम्हारे दुलराने में
कङ्कड़-पत्थर सीप बन गये,
आँखों के घर तक आने में
एक तुम्हारा साथ क्या मिला
आज दर्द नीलाम हो गये
एक तुम्हारा साथ क्या मिला सारे तीरथ धाम हो गये

धूप, धूप लगती थी पहले,
पर, अब, मेघ, तरल लगते हैं
कठिन-कठिन सारे प्रश्नों के,
उत्तर सहज-सरल लगते हैं 
एक तुम्हारा साथ क्या मिला
सपनों के भी दाम हो गये
एक तुम्हारा साथ क्या मिला सारे तीरथ धाम हो गये

अन्तर के मधुमय कोषों में
छिपी हुईं मधु-स्मृतियाँ क्षण की
दिनकर के उगते ही उभरीं,
स्वर्ण-रश्मियाँ आत्म-मिलन की
एक तुम्हारा साथ क्या मिला
प्रेमिल आठों याम हो गये
एक तुम्हारा साथ क्या मिला सारे तीरथ धाम हो गये

रूपान्तरित हुआ है जीवन,
अर्थ मिला है हर तलाश में
सहज हो रही शब्द-साधना,
भक्ति-पूर्ण पावन उजास में
एक तुम्हारा साथ क्या मिला

गीत-गीत अभिराम हो गये 
एक तुम्हारा साथ क्या मिला सारे तीरथ धाम हो गये

:- मधु प्रसाद

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।