31 July 2014

पेङ, पर्यावरण और कागज – नवीन सी. चतुर्वेदी

कटते जा रहे हैं पेङ
पीढी दर पीढी
बढता जा रहा है धुआँ
सीढी दर सीढी
अपने अस्तित्व की रक्षा के लिये,
चिन्तित है
काग़ज़ी समुदाय

हावी होता जा रहा है कम्प्यूटर,
दिन ब दिन,
फिर भी
समाप्त नहीं हुआ - महत्व,
काग़ज़ का अब तक

बावजूद इन्टरनेट के,
काग़ज़ आज भी प्रासंगिक है
नानी की चिठ्ठियों में,
दद्दू की वसीयत में
काग़ज़ ही होता है इस्तेमाल,
हर मोङ पर जिन्दगी के

परन्तु अब थकने भी लगा है काग़ज़
बिना वजह छपते छपते

काग़ज़ के अस्तितव के लिये
जितने जरूरी हैं
पेङ,
पर्यावरण,
आदि आदि,
उतना ही जरूरी है
उनका सदुपयोग
सकारण

अकारण नहीं

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

1 comment:

  1. ज़माना एक तेरा इम्तिहान लेगा अभी
    दिये हैं तूने अभी इंतिहान कागज़ पर –प्रमोद तिवारी (कानपुर)
    सम्पादक साहब !! आपको साधुवाद !! इस रचना के लिये भी और साहित्यम की हर रचना के लिये –मयंक

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter