1 June 2014

इतनी भीड़ में तेरा चेहरा अच्छा लगता है - मुकेश आलम



इतनी भीड़ में तेरा चेहरा अच्छा लगता है
बीच समन्दर एक जज़ीरा अच्छा लगता है

मुद्दत गुज़री आज अचानक याद आए हो तुम
गहरी रात के बाद सवेरा अच्छा लगता है

तुमने अता फ़र्माया है सो मुझको है प्यारा
वर्ना किसको दिल में शरारा अच्छा लगता है

मैं तेरे दिल का तालिब और दैरो-हरम के वो
मुझको दरिया उनको किनारा अच्छा लगता है

सौदाईपागलआवारादीवानामजनूं
तुमने मुझको जो भी पुकारा अच्छा लगता है

तेरी रानाई से आँखें जाग उठीं जब से
तब से मुझको आलम सारा अच्छा लगता है

जज़ीरा=टापू। शरारा=अंगारा। तालिब=चाहने वाला।
दैरो-हरम=मंदिर-मस्जिद। रानाई=रोशनी/चमक।


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter