1 June 2014

मेरे रुतबे में थोड़ा इज़ाफ़ा हो गया है - नवीन

मेरे रुतबे में थोड़ा इज़ाफ़ा हो गया है
अजब तो था मगर अब अजूबा हो गया है

अब अहलेदौर इस को तरक़्क़ी ही कहेंगे
जहाँ दगरा था वाँ अब खरञ्जा हो गया है

छबीले तेरी छब ने किया है ऐसा जादू
क़बीले का क़बीला छबीला हो गया है

वो ठहरी सी निगाहें भला क्यूँ कर न ठुमकें
कि उन का लाड़ला अब कमाता हो गया है

अजल से ही तमन्ना रही सरताज लेकिन
तलब का तर्जुमा अब तमाशा हो गया है

तेरे ग़म की नदी में बस इक क़तरा बचा था
वो आँसू भी बिल-आख़िर रवाना हो गया है

न कोई कह रहा कुछ न कोई सुन रहा कुछ
चलो सामान उठाओ इशारा हो गया है 


नवीन सी. चतुर्वेदी


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter