30 November 2014

हाइकु - गुञ्जन गर्ग अग्रवाल










हाय रे रोटी

ता-उम्र खींचती है

दीन की बोटी











गुञ्जन गर्ग अग्रवाल
9911770367


1 comment:

  1. रचना रचनाकार को नमन !-
    पता न था ,पहले से मुझे ,मेरी उम्र ,महल उसके ,बनाने में ,ठहर जाएगी |
    दुनिया दुखी ,उसकी खुशी ,आजादी मिली ,जहर हवा में ,पानी ठहर ,घुल जाएगा ?

    ReplyDelete