30 November 2014

ग़ज़ल किस तरह होगी ज़िंदगी की - परम

परमजीत सिंह परम
+91 9868170118



ग़ज़ल किस तरह होगी ज़िंदगी की
कही हम से गई दिल की न जी की.

हमारी अक़्ल पर पत्थर पडे थे,
जो हम ने जात चुन ली आदमी की.

तुम्हारे ही लिए पैदा हुए हम,
मुरादें कर लो पूरी रहबरी की.

न लहजा नम न आँखें ही भिगोईं,
बहे वो बाढ में सूखी नदी की.

अंधेरा क्यों चराग़ों के तले है,
ख़बर तो लो ज़रा इस रौशनी की.

सभी प्रश्नों के मिल जाएंगे उत्तर,
ज़रूरत है ज़रा संजीदगी की.

चुराया था यक़ीनन शब ने सूरज
जमानत हो गई पर चोरनी की.

ये माना कोइ तेरी इक न माने,
परम” तूने भी कब मानी किसी की.

No comments:

Post a Comment