30 November 2014

दो ग़ज़लें - नीरज गोस्वामी

नीरज गोस्वामी
+91 9860211911

तुम्हारे ज़हन में गर खलबली है
बड़ी पुर-लुत्फ़ फिर ये ज़िन्दगी है

अजब ये दौर आया है कि जिस में
ग़लत कुछ भी नहीं है, सब सही है

मुसलसल तीरगी में जी रहे हैं
ये कैसी रौशनी हम को मिली है

मुकम्मल ख़ुद को जो भी मानता है
यक़ीं मानें, बहुत उस में कमी है

जुड़ा तुम भीड़ से हो कर तो देखो
अलग राहों में कितनी दिलकशी है

समन्दर पी रहा है हर नदी को
हवस बोलें इसे या तिश्नगी है

नहीं आती है नीरज हाथ जो भी
हर एक वो चीज़ लगती क़ीमती है




मुश्किलों की बड़ी हैं यही मुश्किलें
आप जब चाहें कम हों – तभी ये बढ़ें

अब कोई दूसरा रासता ही नहीं
याद तुझ को करें और ज़िन्दा रहें

बस इसी सोच से झूठ क़ायम रहा
बोल कर सच भला हम बुरे क्यों बनें

डालियों पे फुदकने से जो मिल गयी
उस ख़ुशी के लिये क्यों फ़लक पर उड़ें

हम दरिन्दे नहीं गर हैं इनसान तो
आईना देखने से बता क्यों डरें

ज़िन्दगी ख़ूबसूरत बने इस तरह
हम कहें तुम सुनो तुम कहो हम सुनें

आ के हौले से छू लें वो होठों से गर

तो सुरीले मुरलिया से नीरज बजें

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter