30 April 2014

अँगुरीन लों पोर झुकें उझकें मनु खञ्जन मीन के जाले परे - गोविन्द कवि

अँगुरीन लों पोर झुकें उझकें मनु खञ्जन मीन के जाले परे
दिन औधि के कैसें गिनों सजनी अँगुरीन की पोरन छाले परे
कवि गोविन्द का कहियै किहिं सों हमें प्रीत करे के कसाले परे
जिन लालन चाँह करे इतनी उनें देखन के अब लाले परे 

औधि - अवधि 

गोविन्द कवि


दुर्मिल सवैया
कुल चार चरण, आठ सगण प्रति चरण

6 comments:

  1. अँगुरीन लों पोर झुकें उझकें मनु खञ्जन मीन के जाले परे
    ११२ १२२ ११२ ११२ ११२ ११२ १२२ २१२
    दिन औधि के कैसें गिनों सजनी अँगुरीन की पोरन छाले परे
    ११२ १ २२ २१२ १२२ ११२ १२२ ११२ २१२
    कवि गोविन्द का कहियै किहिं सों हमें प्रीत करे के कसाले परे
    ११२ २१२ ११२ ११२ १२२ ११२ २१२ २१२
    जिन लालन चाँह करे इतनी उनें देखन के अब लाले परे
    ११२ ११२ ११२ ११२ १२२ ११२ ११२ २१२
    आठ सगण (= ११२ ) प्रति चरण....
    ---- सभी सगण नहीं हैं अतः ...गण पर शुद्ध नहीं है ....

    ReplyDelete
  2. परन्तु ....सवैया हर प्रकार से सुन्दर बन पडा है ....

    ReplyDelete
  3. असावधानीवश लिखते समय गणों के सिद्धांत में चूक होना संभव है...
    जो भी हो, सवैया सुंदर है


    साधुवाद !

    ReplyDelete
  4. सवैया छंद में अक्षर-लोप एक साधारण घटना है, यथा

    मानुष हों तौ वही रसखान ... जो पसु हों तौ बसेरौ करों - रसखान
    देख सुदामा की दीन दशा ...... - नरोत्तम
    को नहिं जानत है जग में कपि संकट मोचन नाम तिहारौ - तुलसीदास
    पर कारज देह कों धारें फिरौ - घनानन्द

    लिस्ट बहुत लम्बी है

    ReplyDelete
    Replies
    1. अक्षर / मात्रा लोप यानि हर्फ़ गिराना यानि गुरु को लघु की तरह पढ़ना

      Delete
  5. बहुत सुंदर सवैया । सवैया के पूरे रस में पगा हुआ ।

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।