27 December 2013

आप की हूक दिल में जो उठबे लगी - नवीन

आप की हूक दिल में जो उठबे लगी
जिन्दगी सगरे पन्ना उलटिबे लगी

बस निहारौ हतो आप कौ चन्द्र-मुख
जा ह्रिदे की नदी घाट चढ़िबे लगी

पीउ तनिबे लग्यौ, बन गई बौ  लता
छिन में चढ़िबे लगी छिन उतरिबे लगी

प्रेम कौ रंग जीबन में रस भर गयौ
रेत पानी सौ ब्यौहार करिबे लगी

मन की आबाज सुन कें भयौ जै गजब
ओस की बूँद सूँ प्यास बुझबे लगी



:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे मुतदारिक मुसम्मन सालिम
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
212 212 212 212


[मानकों के अधिकतम निकट रहते हुये उपरोक्त गजल का भावार्थ]


आप की हूक दिल में जो उठने लगी
जिन्दगी सारे पन्ने उलटने लगी

बस निहारा ही था आप का चन्द्र-मुख
इस हृदय की नदी घाट चढ़ने लगी

पिय जो तनने लगे, बन गई वह लता
छिन में चढ़ने लगी छिन उतरने लगी

प्रेम का रङ्ग जीवन में रस भर गया
रेत पानी सा ब्यौहार करने लगी

मन की आवाज़ सुन कें हुआ ये गज़ब

ओस की बूँद से प्यास बुझने लगी

3 comments:

  1. अपने भावों को ख़ूबसूरती से प्रस्तुति करती सुंदर गजल...!
    Recent post -: सूनापन कितना खलता है.

    ReplyDelete
  2. अपने भावों को ख़ूबसूरती से प्रस्तुति करती सुंदर रचना...!
    Recent post -: सूनापन कितना खलता है.

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना एक अलग सुख ले कर आती है।

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter