18 November 2013

कहाँ गागर में सागर होतु ऐ भैया - नवीन

कहाँ गागर में सागर होतु ऐ भैया
समन्दर तौ समन्दर होतु ऐ भैया

हरिक तकलीफ कौं अँसुआ कहाँ मिलत्वें
दुखन कौ ऊ मुकद्दर होतु ऐ भैया

छिमा तौ माँग और सँग में भलौ हू कर
हिसाब ऐसें बरब्बर होतु ऐ भैया

सबेरें उठ कें बासे म्हों न खाऔ कर
जे अतिथी कौ अनादर होतु ऐ भैया

कबउ खुद्दऊ तौ गीता-सार समझौ कर
जिसम सब कौ ही नस्वर होतु ऐ भैया

जबै हाथन में मेरे होतु ऐ पतबार
तबै पाँइन में लंगर होतु ऐ भैया

बिना आकार कछ होबत नहीं साकार
सबद कौ मूल - अक्षर होतु ऐ भैया

:- नवीन सी. चतुर्वेदी


बहरे  हजज मुसद्दस सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222



कहाँ गागर में सागर होता है साहब
समन्दर तौ समन्दर होता है साहब

हरिक तकलीफ़ को आँसू नहीं मिलते
ग़मों का भी मुक़द्दर होता है साहब

मुआफ़ी के सिवा नेकी भी कीजेगा
हिसाब ऐसे बराबर होता है साहब

सवेरे उठ के बासे मुँह न खाएँ हुजूर
ये महमाँ का अनादर होता है साहब

कभी ख़ुद भी तो गीता-सार समझें आप
बदन सब ही का नश्वर होता है साहब

हमारे हाथों में जब होती है पतवार
तभी पाँवों में लंगर होता है साहब

बिना आकार कछ होता नहीं साकार

सबद का मूल - अक्षर होता है साहब

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter