9 October 2011

कुछ दोहे-सोरठे - नवीन

दोहे 

जलें दीप हर द्वार पर, मिटे अंधेरी रैन|
सब को इस दीपावली, मिले शान्ति, सुख, चैन|१|

पाकिट में पैसे भरे, आँखों में दुःख-दर्द|
बिना फेमिली ज़िंदगी, ज्यूँ सजनी, बिन मर्द|२|

अनुभव, ज्ञान, उपाधियां, रिश्ते, नफरत, प्रीत।
बिन मर्ज़ी मिलते नहीं, यही सदा की रीत ।३।



सोरठे 

ऐसा हुआ कमाल, बाँहें बल खाने लगीं|
पूछ न दिल का हाल, अब के करवा चौथ में|१| 

'करवा-चन्द्र'  निढाल, करता रहा अतीत से|
'शरद-चन्द्र' तत्काल, बहन भाई का प्यार है|२|

:- नवीन सी. चतुर्वेदी 

7 comments:

  1. कल 31/10/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. अनुभव, ज्ञान, उपाधियां, रिश्ते, नफरत, प्रीत।
    बिन मर्ज़ी मिलते नहीं, यही सदा की रीत
    बहुत सही कहा आपने

    ReplyDelete
  3. सुंदर दोहे लिखते है आप,बढिया पोस्ट.....

    ReplyDelete
  4. अनुभव, ज्ञान, उपाधियां, रिश्ते, नफरत, प्रीत।
    बिन मर्ज़ी मिलते नहीं, यही सदा की रीत ।३।
    वाह!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर दोहा अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकार...

    जीवन पुष्प
    www.mknilu.blogspot.com

    ReplyDelete