6 August 2016

बढा रही हैं रंगतें हुज़ूर के दयार की - नवीन

बढा रही हैं रंगतें हुज़ूर के दयार की।
धिनक-धिनक-धिनक-धिनाक-धिन धुनें धमार की॥
निकुंज के सनेहियों को और चाहिये भी क्या।
वही किशन की बाँसुरी वही धुनें धमार की॥
इसी लिये तो आप से सनेह छूटता नहीं।
इक आप ही तो सुनते हैं शिकायतें शिकार की॥
लता-पताएँ छोड़िये महक तलक उदास है।
बिछोह में झटक गयी हैं बेटियाँ बहार की॥
कभी कहो हो सब्र कर कभी कहो हो भूल जा।
बदल रहे हैं आप क्यों दवाइयाँ बुख़ार की॥
न कल्प-वृक्ष चाहिये न कामधेनु चाहिये।
हुज़ूर हम तो चींटियाँ हैं आप के दयार की॥
ज़ुरूर उन को भी हमारी याद आई है ‘नवीन’।
तभी तो बात हो रही है नन्द के कुमार की॥
गिरह:-
तजल्लियों* ने आदमी को सोचना सिखा दिया।
” ‘
ये’ दासतान है नज़र पै रौशनी के वार की”॥
*तेज-पुंज / दैवीय-प्रकाश / ज्ञान-रश्मियाँ / प्रकाश-किरणें
तसव्वुर (कल्पना) बतलाता है कि मानव की दृष्टि पर सबसे पहला रश्मि-वार सूर्य-चन्द्रमा के प्रकाश की किरणों का हुआ होगा।

नवीन सी चतुर्वेदी


बहरे हज़ज मुसम्मन मक़्बूज़
मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन
1212 1212 1212 1212

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter