31 July 2014

भोजपुरी गजलें - इरशाद खान सिकन्दर

खेते ईंट उगावल छोड़ा
धरती के तड़पावल छोड़ा

आधी रात के खोंखी आई
सँझवे से मुंह बावल छोड़ा

जून जमाना गइल ऊ काका
लइकन के गरियावल छोड़ा

बात समझ में आवत नइखे
बेसी बात बनावल छोड़ा

काम अधिक बा छोट ह जिनकी
जाँगर तू लुकवावल छोड़ा

भँइस के आगे बीन बजाके
आपन गुन झलकावल छोड़ा




छूटल आपन देस विधाता
गाँव भइल परदेस विधाता

केहू राह निहारत होई
लागी दिल पर ठेस विधाता

जोहत जोहत आँख गइल अब
कब आई सन्देस विधाता

उखड़ल उखड़ल मुखड़ा सबके
काहे बिखरल केस विधाता

चरिये दिन में खूब देखवलस
जिनगी आपन टेस विधाता

ओही खातिर धइले बानी
जोगी के ई भेस विधाता

:- इरशाद खान सिकन्दर
9818354784

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter