1 June 2014

गीत - बात की बात में क्या हुआ है हमैं - मोनी गोपाल ‘तपिश

बात की बात में क्या हुआ है हमैं 
शब्द धन चुक गया  - साँस अवरूद्ध है !

शहर सम्बन्ध का - तोड़ता ही रहा 
भाव से भाव मन - जोड़ता ही रहा 
नेह की आस मन - में समोए रहे 
प्रीत का ये नमन - ये चलन शुद्ध है !

कितने क़िस्से कहे - कितनी बातें बनीं 
गान तो थे पुरातन - नई धुन चुनीँ 
चाँदनी की तरह - हम सरसते रहे 
सूर्य हमसे इसी - बात पर क्रुद्ध है !

कितनी टूटन सही - कितने ताने सहे 
नेह की छॉंव से - हम अजाने रहे 
फिर किसी पीर ने हमको समझा दिया 
नेह ही कृष्ण है - नेह हीं बुद्ध है !

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter