30 April 2014

मेरे मौला की इनायत के सबब पहुँचा है - नवीन

मेरे मौला की इनायत के सबब पहुँचा है
ज़र्रा-ज़र्रा यहाँ रहमत के सबब पहुँचा है
मौला - स्वामी / मालिक / प्रभु, इनायत - कृपा, के सबब - के कारण से

कोई सञ्जोग नहीं है ये अनासिर का सफ़र
याँ हरिक शख़्स इबादत के सबब पहुँचा है
अनासिर का सफ़र - पञ्च-भूत की यात्रा, यानि पृथ्वी पर मनुष्य योनि में जन्म

दोस्त-अहबाब हक़ीमों को दुआ देते हैं
जबकि आराम अक़ीदत के सबब पहुँचा है
अक़ीदत - श्रद्धा / विश्वास

न मुहब्बत न अदावत न फ़रागत न विसाल
दिल जुनूँ तक तेरी चाहत के सबब पहुँचा है
फ़रागत - अलग होना / निवृत्ति, विसाल - मिलन, जुनून - उन्माद / पागलपन 

एक तो ज़ख्म दिया उस पे यूँ फ़रमाया 'नवीन'
"तीर तुझ तक, तेरी शुहरत के सबब पहुँचा है"

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन
2122 1122 1122 22 

1 comment:

  1. ये कमाल की गजल है सर, बहुत बेहतरीन।

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter