30 April 2014

चढ़ता उतरता प्यार - मुकेश कुमार सिन्हा


चढ़ता उतरता प्यार
वो मिली
चढ़ती सीढियों पर
मिल ही गयी
पहले थोड़ी
नाखून भर
फिर
पूरी की पूरी..
मन-भर
और फिर
प्यार की सीढियों
पर
चढ़ती चले गयी....

वो फिर
मिली
उन्ही सीढियों पर,
मगर, इस बार
नीचे की ओर जाती सीढ़ियों पर
आँखे नम थीं
नीचे दरवाजे तक
एक-दूसरे से आँखे टकराई
फिर दूरियाँ
सिर्फ दूरियाँ ............!!

:- मुकेश कुमार सिन्हा

9971379996

1 comment:

  1. थैंक्स इस शेयर के लिए .......

    ReplyDelete