30 April 2014

चढ़ता उतरता प्यार - मुकेश कुमार सिन्हा


चढ़ता उतरता प्यार
वो मिली
चढ़ती सीढियों पर
मिल ही गयी
पहले थोड़ी
नाखून भर
फिर
पूरी की पूरी..
मन-भर
और फिर
प्यार की सीढियों
पर
चढ़ती चले गयी....

वो फिर
मिली
उन्ही सीढियों पर,
मगर, इस बार
नीचे की ओर जाती सीढ़ियों पर
आँखे नम थीं
नीचे दरवाजे तक
एक-दूसरे से आँखे टकराई
फिर दूरियाँ
सिर्फ दूरियाँ ............!!

:- मुकेश कुमार सिन्हा

9971379996

1 comment:

  1. थैंक्स इस शेयर के लिए .......

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter