15 November 2013

देखत रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में - नवीन

देखत रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में
गरमी झेल न पाई भैया भैंस पसर गई दगरे में
 दगरा - दो गाँव के बीच का पग्डण्डी से बड़ा मगर धूल भरा कच्चा रास्ता, कच्ची सड़क नहीं 

बीस बखत बोल्यौ हो तो सूँ दानौ पानी कम न परै
अब का कर्तु ए हैया-हैया भैंस पसर गई दगरे में
भेंस जब रास्ते में पसर जाती है तो उसे उठाने के क्रम में की जाने वाली आवाज़ों में से एक

ऐसी-बैसी चीज समझ मत जे तौ है सरकार की सास
जैसें ई देखे नकद रुपैया भैंस पसर गई दगरे में

कारी मौटी धमधूसर सी नार थिरकबे कूँ निकरी
नाचत-नाचत ता-ता थैया भैंस पसर गई दगरे में
 धमधूसर - अति मोटी

खान-पान के असर कूँ देखौ जैसें ई कीचम-कीच भई
पड़-पड़ भज गई गैया-मैया, भैंस पसर गई दगरे में

[ब्रजभाषा - ग्रामीण]

:- नवीन सी, चतुर्वेदी





देखते रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में
गरमी झेल न पाई भैया भैंस पसर गई दगरे में
 दगरा - दो गाँव के बीच का पग्डण्डी से बड़ा मगर धूल भरा कच्चा रास्ता, कच्ची सड़क नहीं 

बीस बार बोला था तुझ से दाना-पानी कम न पड़े
अब क्या करता है हैया-हैया भैंस पसर गई दगरे में
भेंस जब रास्ते में पसर जाती है तो उसे उठाने के क्रम में की जाने वाली आवाज़ों में से एक

ऐसी-वैसी चीज समझ मत ये तो है सरकार की सास
जैसें ही देखे नकद रुपैया भैंस पसर गई दगरे में

काली मौटी धमधूसर सी नार थिरकने को निकली
नाचत-नाचत ता-ता थैया भैंस पसर गई दगरे में
 धमधूसर - अति मोटी

खान-पान के असर को देखौ जैसें ही कीचम-कीच हुई

पड़-पड़ भज गई गैया-मैया, भैंस पसर गई दगरे में

No comments:

Post a Comment