15 November 2013

देखत रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में - नवीन

देखत रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में
गरमी झेल न पाई भैया भैंस पसर गई दगरे में
 दगरा - दो गाँव के बीच का पग्डण्डी से बड़ा मगर धूल भरा कच्चा रास्ता, कच्ची सड़क नहीं 

बीस बखत बोल्यौ हो तो सूँ दानौ पानी कम न परै
अब का कर्तु ए हैया-हैया भैंस पसर गई दगरे में
भेंस जब रास्ते में पसर जाती है तो उसे उठाने के क्रम में की जाने वाली आवाज़ों में से एक

ऐसी-बैसी चीज समझ मत जे तौ है सरकार की सास
जैसें ई देखे नकद रुपैया भैंस पसर गई दगरे में

कारी मौटी धमधूसर सी नार थिरकबे कूँ निकरी
नाचत-नाचत ता-ता थैया भैंस पसर गई दगरे में
 धमधूसर - अति मोटी

खान-पान के असर कूँ देखौ जैसें ई कीचम-कीच भई
पड़-पड़ भज गई गैया-मैया, भैंस पसर गई दगरे में

[ब्रजभाषा - ग्रामीण]

:- नवीन सी, चतुर्वेदी





देखते रह गए ताल-तलैया भैंस पसर गई दगरे में
गरमी झेल न पाई भैया भैंस पसर गई दगरे में
 दगरा - दो गाँव के बीच का पग्डण्डी से बड़ा मगर धूल भरा कच्चा रास्ता, कच्ची सड़क नहीं 

बीस बार बोला था तुझ से दाना-पानी कम न पड़े
अब क्या करता है हैया-हैया भैंस पसर गई दगरे में
भेंस जब रास्ते में पसर जाती है तो उसे उठाने के क्रम में की जाने वाली आवाज़ों में से एक

ऐसी-वैसी चीज समझ मत ये तो है सरकार की सास
जैसें ही देखे नकद रुपैया भैंस पसर गई दगरे में

काली मौटी धमधूसर सी नार थिरकने को निकली
नाचत-नाचत ता-ता थैया भैंस पसर गई दगरे में
 धमधूसर - अति मोटी

खान-पान के असर को देखौ जैसें ही कीचम-कीच हुई

पड़-पड़ भज गई गैया-मैया, भैंस पसर गई दगरे में

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter