10 November 2013

बड़ी सयानी है यार क़िस्मत सभी की बज़्में सजा रही है - नवीन

बड़ी सयानी है यार क़िस्मत सभी की बज़्में सजा रही है
कहीं पे जलवे दिखा रही है कहीं जुनूँ आज़मा रही है 

अगर तू बस दास्तान में है अगर नहीं कोई रूप तेरा
तो फिर फ़लक से ज़मीं तलक ये धनक हमें क्या दिखा रही है

सभी दिलो-जाँ से जिस को चाहें उसे भला आरज़ू है किस की
ये किस से मिलने की जुस्तजू में हवा बगूले बना रही है

तमाम दुनिया तमाम रिश्ते हमाम की दास्तान जैसे 
हयात की तिश्नगी तो देखो नदी किनारों को खा रही है

चलो कि इतनी तो है ग़नीमत कि सब ने इस बात को तो माना
कोई कला तो है इस ख़ला में जो हर बला से बचा रही है

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे रजज़ मख़बून मरफ़ू मुख़ल्ला
मुफ़ाइलुन फ़ाएलुन फ़ऊलुन मुफ़ाइलुन फ़ाएलुन फ़ऊलुन 
1212 212 122 1212 212 122

1 comment:

  1. बहुत खूबसूरती के साथ लिखा है आपने
    सुंदर प्रस्तुति
    यहाँ भी पधारिए
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter