4 November 2013

कहानी बड़ी मुख़्तसर है - नवीन

कहानी बड़ी मुख़्तसर है
कोई सीप कोई गुहर है

बगूलों से उपजे बगूले
हवा तो फ़क़त नोंक भर है

फ़क़ीरों को दुनिया की परवा
अगरचे नहीं है, मगर है

ठहरते- ठहरते, ठहरते
ठहरना भी तो इक हुनर है

तुम्हारा कहा भी सुनेगी
अभी रूह परवाज़ पर है

कहो तो यहीं दिन तलाशें
यहाँ तीरगी पुरअसर है

अदब की डगर पर कहें क्या
यही रहगुज़र थरगुजर है

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे मुतकारिब मुसद्दस सालिम
122 122 122
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter