3 September 2013

जागती आँखों से छुआ नही जाता - दिगम्बर नासवा

अक्सर ऐसा हुआ है
   बहुत कोशिशों के बाद
      जब उसे मैं छू न सका
         सो गया मूँद कर आँखें अपनी

बहुत देर तक फिर सोया रहा
   महसूस करता रहा उसके हाथ की नरमी
      छू लिया हल्के से उसके रुखसार को

उड़ता रहा खुले आसमान में
   थामे रहा उसका हाथ
      चुपके से सहलाता रहा उसके बाल

पर हर बार
   जब भी मेरी आँख खुली
      अचानक सब कुछ दूर
         बहुत दूर हो गया

क्या वो सिर्फ़ एक एहसास था...................

   एहसास जिसे महसूस तो किया जा सकता है
      पर जागती आँखों से छुआ नही जा सकता

         जागती आँखों से छुआ नहीं जाता

13 comments:

  1. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 04/09/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी. आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब नवीन जी ... आपने इस रचना में चार चाँद लगा दिए ... कविता के मर्म को ढूंढ निकाला जो आप जैसा पारखी ही कर सकता है ...
    आपका बहुत बहुत आभार इसे साझा करने के लिए ...

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर कविता . नवीन भाई के ब्लॉग पर देख और भी प्रसन्नता हुई

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  7. सारे एहसासों कों शब्द नही दें सकते हैं हम इंसान |बहुत ही खूबसूरत रचना |
    नई पोस्ट-“जिम्मेदारियाँ..................... हैं ! तेरी मेहरबानियाँ....."

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,

    ReplyDelete

  9. नवीन जी सुन्दर एहसास ,बहुत खुबसूरत भाव
    latest post देश किधर जा रहा है ?

    ReplyDelete
  10. वाह! क्या सुन्दर और कोमल भावनायें हैं ,वाह!

    ReplyDelete
  11. अहसासों को अहसास करने के खुबसूरत अहसास ...
    आभार!

    ReplyDelete
  12. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} परिवार की ओर से शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    --
    सादर...!
    ललित चाहार

    शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | यदि आप हरियाणा लेखक के है तो कॉमेंट्स या मेल में आपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज ते समय लिखना HR ना भूलें ।

    चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002

    - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
    - तकनीक शिक्षा हब
    - Tech Education HUB

    ReplyDelete