6 August 2016

नहीं नहीं ये नहीं कि हम उस का दर भूल गये - नवीन

नहीं नहीं ये नहीं कि हम उस का दर भूल गये
सच तो ये है साहब हम अपना घर भूल गये
उस पनिहारिन की अँखियों ने यूँ मदहोश किया
पैराहन तो ले आये हैं पैकर भूल गये
यार उसे खोने की हिम्मत हम में है ही नहीं
किसे भुलाना है ये भी हम अक्सर भूल गये
उसने कुछ बोला तो था जाने क्या बोला था
लबों की लग्जिश याद है केवल, आखर भूल गये
उन ही के दम से तो मरीज़ मरज़ पै हावी है
कैसे कहें उस की बातों के नश्तर भूल गये
बेदम और उदास भी थे पर फ़लक तेरी ख़ातिर
आन पड़ा तो हम अपने बालोपर भूल गये
और भला किस की हिम्मत वो तो है हमारा दिल
भूलने वाले हम को जिस की शह पर भूल गये
जितने शेर सुना कर ख़ुद को शायर समझे हम
उतने शेर तो कहने वाले कह कर भूल गये
आप की दुश्वारी का इतना सा कारन है ‘नवीन’
आप को रहजन याद रहे बस – रहबर भूल गये
नवीन सी चतुर्वेदी


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter