12 August 2016

हमें हर बार थोड़े ही करिश्मा1 चाहिये साहब - नवीन

हमें हर बार थोड़े ही करिश्मा1 चाहिये साहब।  
सलीक़ा चाहिये साहब क़रीना2 चाहिये साहब॥  

बहुत ईमानदारी से कई लड़कों ने बतलाया। 
प्रियंका हो न हो लेकिन मनीषा3 चाहिये साहब॥ 

हमें रस्मो-रिवाज़ों ने कहाँ ला कर पटक डाला। 
कि बेटा हो न हो लेकिन तनूजा4 चाहिये साहब॥ 

नदी के तीर पर अद्भुत-अलौकिक शांति मिलती है। 
हताशा हो तो लाज़िम है बिपाशा5 चाहिये साहब॥   

पुराने चावलों की हर ज़माना क़द्र करता है। 
लता दीदी के युग में भी सुरैया चाहिये साहब॥ 

जिन्हें हूरों की हसरत हो वे जन्नत के मज़े लूटें। 
हमें अपने लिये तो सिर्फ़ हेमा6 चाहिये साहब॥  

नहीं हरगिज़ अंधेरों की सिफ़ारिश कर रहा हूँ मैं। 
नवीन’ इक सुब्ह की ख़ातिर – शबाना7 चाहिये साहब॥


1 चमत्कार 2 तरीक़ा, पद्धति manners 3 पढ़ी-लिखी / विदुषी 4 बेटी 5 नदी 6 पृथ्वी 7 रात

नवीन चतुर्वेदी

बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222 1222


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter