30 November 2014

वे कम्बल – कामिनी अग्रवाल

 आज
उन कम्बलों को देख कर मेरी आँखों में आँसू आ गये

वे कम्बल मुझे बहुत पसन्द थे
इसिलिये दो खरीदे थे

परन्तु
जब ओढ़ने की बारी आयी
आँखों के सामने बेटा-नाती आ गये
उन दौनों के बिस्तर में वे कम्बल पहुँच गये

हम बाकी सदस्य
दूसरे पुराने कम्बल ही ओढ़ लेते थे
उन्हीं में गर्माहट महसूस कर लेते थे

वक़्त गुजरा
एक और नया कम्बल आया
वह कम्बल ‘इन के’ बिस्तर पर पहुँचाया
तीनों नये कम्बल बँट चुके थे

हमें पुराने कम्बल ही चलेंगे – सोच कर
माँ-बेटी चुप रह गये थे

ऐसा नहीं था
कि कुछ और नये कम्बल खरीद नहीं सकते थे
परन्तु बढ़ते सामान को देख कर
विचार बदल देते थे

फिर बेटी ने घर लिया
बेटी शिफ्ट हो गयी
पुराने कम्बलों की जोड़ी वाला कम्बल
घर में ही था
सफ़ाई करते वक़्त मेरे हाथ लगा

समय बीता
फिर बेटे ने अपना घर बसाया
ख़ुशी-ख़ुशी से

ख़ूब नया सामान आया
मर्ज़ी से

दौनों बच्चे अपने-अपने घरों में हैं
परन्तु मेरे दिल को सूना कर गये

भरा-पूरा घर
तीन हिस्सों में बस गया
माँ के दिल से यही आवाज़ आयी
सब जहाँ भी रहें
सुखी रहें
सन्तुष्ट रहें

बेडरूम में आयी
तो देखा कि मैं और मेरे पति
बस हम दौनों अकेले खड़े हैं
और हमारे सामने
सारे कम्बल पड़े हैं

यही है जीवन की यात्रा
और ऐसी ही होती हैं
जीवन की उपलब्धियाँ

मैं रो नहीं रही हूँ
बस गीली पलकों को पौंछ रही हूँ
आप भी रोइयेगा नहीं

: कामिनी अग्रवाल

+91 9930718481

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।