30 November 2014

उर्दू का ज़िक्र आते ही अक्सर मैं उछलता हूँ ऐसे - नवीन

उर्दू का ज़िक्र आते ही अक्सर मैं उछलता हूँ ऐसे
नुक़्ता रखने पर मुक्ता-माणिक मिल जायेंगे जैसे

ऐन-ग़ैन की बह्सों में शिरकत करता हूँ कुछ ऐसे
जैसे हर इक तर्क पे मुझ को मिलने वाले हों पैसे

चन्द्र-बिन्दु और अनुस्वार का अन्तर भी अब याद नहीं
नहीं जानता हँसने वाला आख़िर हन्सेगा कैसे
(हंसेगा)

ड़ ण ञ का इस्तेमाल किये इक अरसा बीत गया
दिल - दल वाले हर्फ़ मगर पढ़ लेता हूँ जैसे-तैसे

सूरदास बन कर दिन-दिन भर मीरा को पढ़ता हूँ और
मीरो-ग़ालिब बन जाता हूँ रोज शाम पौने छै से

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter