31 July 2014

मस्तानी यादें - राजू


राजू भाई हमारे बचपन के साथी हैं। मथुरा से ले कर मुम्बई तक उन्हों ने अनेक बार यह कविता सुनाई होगी हमें। बहुत प्यारी कविता है। किस की है? यह उन्हें नहीं पता – मगर बड़े ही मस्ताने अंदाज़ में सुनाते हैं। आप भी पढ़िये

एक दिन मैं बालूसाई की सड़क पर
दौड़ लगा रहा था
आगे बढ़ा
मुझे शर्बत की नदी मिली
उस में
समोसे की नाव तैर रही थी
उस में बैठ कर
मैं ने नदी पार की
आगे बढ़ा
तो मुझे मिश्री का महल दिखाई पड़ा
उस की छत पर
बूँदी के लड्डू
तोप ताने हुये खड़े थे
मैं अन्दर गया
तो मुझे क्या दिखाई दिया
कि इमरती रानी
चमचम का तकिया लगाये
विश्राम कर रही थीं
उन्हों ने
जैसे ही मुझे देखा
बूँदी के लड्डुओं वाली सेना बुलवाई
और उस के हाथों
मुझे उठवा कर
रबड़ी की दलदल में फिकवा दिया
और मुझ पे
रसगुल्लों को तोपगोले दागे जाने लगे
बस तभी
आँख खुल गयी
बड़ा ही मीठा सपना था यार  

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter