29 March 2014

काला तिल नसवारी आँखें – नज़ीर जालन्धरी

काला तिल नसवारी आँखें
हैं मश्कूक तुम्हारी आँखें

सब्र की रिश्वत माँग रही हैं
साजन की पटवारी आँखें

जब भी शॉपिंग करने निकलो
फ़िट कर लो बाज़ारी आँखें

लरज़ गया तन मेरा, उस ने –
ऐसे जोड़ के मारी आँखें

पास मेरे आ बच के, बचा के
देखती हैं सरकारी आँखें

जी में है छुप जाऊँ उन में
हाय तेरी अलमारी आँखें

नज़ीर जालन्धरी

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter