20 September 2013

उसूल अपनी जगह कामकाज अपनी जगह - नवीन

उसूल अपनी जगह कामकाज अपनी जगह
यक़ीन अपनी जगह है रिवाज अपनी जगह

मैं तब ज़हीन था और अब पढ़ा-लिखा इन्सान
अज़ल है अपनी जगह और आज अपनी जगह
ज़हीन – कुशल / दक्ष, अज़ल – सृष्टि का पहला दिन

किसी दीवानी की उलफ़त ने हम को सिखलाया
लगन है अपनी जगह लोकलाज अपनी जगह

शकेब को भी तो हमजिंस की कमी खटकी
मक़ाम अपनी जगह है मिज़ाज अपनी जगह
हमजिंस – अपने जैसा

:- नवीन सी. चतुर्वेदी


बहरे मुजतस मुसमन मखबून महजूफ
मुफ़ाएलुन फ़एलातुन मुफ़ाएलुन फालुन

1212 1122 1212 2

6 comments:

  1. वाह.्खूब..लाझवाब है...

    ReplyDelete
  2. स्थानों पर सभी अवस्थित

    ReplyDelete
  3. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} 22/09/2013 को जिंदगी की नई शुरूवात..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल – अंकः008 पर लिंक की गयी है। कृपया आप भी पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें। सादर ....ललित चाहार

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात है ...

    सब कुछ अपनी जगह,
    सबकी अपनी जगह |

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया ।

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter