5 November 2010

लयात्मक अतुकान्त आधुनिक कविता - नवीन

जगमग जगमग
जग सारा
और रोशन है
हर द्वार
गली बाजार सजे सँवरे दिखते
चहुँ ओर

दैदीप्यमान
मानव संस्कृति ने रचे
अनेकों पर्व
दिवाली है उन में से एक

युगों युगों से
दीवाली के दिन सब
पूजा करते हैं
धन की देवी
पद्मासन पे आसीन
विष्णु की प्रिया
यशस्वी लक्ष्मी की

कहीं रोशनी
कहीं अंधेरा
ये भी है सच
अंधी दौड़ लगाती
विनिर्दिष्ट
आज की
आदमख़ोर
व्यवस्था का

फिर भी
ग्लास भरा आधा
कहना ही
ये
होगा हितकर
हम सबके लिए
सकारात्मक
परिणामों
की अभिलाषा में

आओ यार
चलो कुछ नया गढ़ें
कुछ नया करें
कुछ अभिनव हो
उत्साह भरें
उन सब के मन में
जो हैं पड़े हुए
कब से ही
छिटके हुए
निराश्रय
दूर
हाशिए पर
तन्हा

गर ऐसा हो पाये
तो ये कोशिस
होगी सफल
हमारा सपना होगा पूर्ण
हमें आनंद आयगा बहुत
एक नव युग का होगा सूत्रपात
धरती को भी होगा गुमान
अपनी जननी का कर्ज़
बहुत जो नहीं
तो थोड़ा तो
उतार पाएँगे हम

:- नवीन सी. चतुर्वेदी 

11 comments:

  1. सुंदर अतुकांत कविता..

    ReplyDelete
  2. जी धन्यवाद नूतन नीति जी| एक्च्युली मुझे आप सभी से जानना ये है कि इस अतुकान्त कविता को आप लय के साथ पढ़ पाते हैं या नहीं|

    ReplyDelete
  3. अच्छी लगी अतुकांत कविता पर ये समझ नहीं आ रहा की इस पोस्ट पर ५ तारीख क्यों दिख रही है

    ReplyDelete
  4. क्योंकि इसे ५ नव. को पोस्ट किया गया था| मित्रों की नज़र में दोबारा लाने के लिए आज फिर से कोट किया है|

    ReplyDelete
  5. अतुकांत कविता में लय तभी आती है जब आप काव्‍य का व्‍याकरण जानते हों..छंदो की सीमाओं का अतिक्रमण करने के बाद भी एक सुंदर लयात्‍मक कविता परोसने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  6. हरी भाई जब हमारे काम की आप जैसे साहित्य के प्रेमी सराहना करते हैं तो बहुत अच्छा लगता है|

    ReplyDelete
  7. उनके मन मेम जो पडे हुवे हैम कब से निराश्रय और तन्हा। सुन्दर सुन्दर पंक्ति , ख़ूबसूरत कविता ।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही लाजबाव कविता है।
    कविता मेँ लय लाना पढ़ने वाले पर भी निर्भर करता हैँ। जिसे कविता की समझ होती है तथा कविताओँ मेँ रूचि होती हैँ वह लय के साथ पढ़ लेते हैँ। मैँने बाकायदा रिदम के साथ आपकी कविता पढ़ी हैँ। आभार जी।

    -: VISIT MY BLOG :-
    पढ़िये मेरे ब्लोग पर......... वायरल, ड़ेँगूँ तथा चिकुनगुनियाँ से बचने का तरीका तथा प्रभावी इलाज

    ReplyDelete
  9. संजय जी और डाक्टर साब आप दौनों की बहुमूल्य टिप्पणियों का दिल से स्वागत| कविता में रिदम न हो तो मज़ा नहीं आता| संजय जी आप की नई ग़ज़लों के पोस्ट होने पर मुझे इत्तला अपने आप मिल जाए इस के लिए मुझे क्या करना चाहिए? कृपया बताने की कृपा करें|

    ReplyDelete
  10. shabdon mein chhupe bhaav yadi dil ko chhoo jayen to vo apne aap kavita kaa roop le lete hain...aur aapki rachna is kasouti par khari utarti hai..bahut bahut badhaai...

    ReplyDelete
  11. indian tamasha

    i think u r gopi bhai

    aapki bahumuly tippani ke lisye bahut bahut shukriya

    ReplyDelete