31 July 2014

वेद-पुराण और उपनिषदों का पीछा कर के - नवीन

वेद-पुराण और उपनिषदों का पीछा कर के
हाँ जी! हमने शेर कहे हैं - चरबा कर के


भव-सागर के तट-बन्धों से किनारा कर के
कब का सब कुछ त्याग चुके हम, दावा कर के 

किसी ने हम को मुआफ़ किया और ये समझाया
हाथ नहीं लगना कुछ भी, मन मैला कर के

जिन का जलवा है, वोह तो छुप कर बैठी हैं
डाल और पत्ते झूम रहे हैं - साया कर के

देख के तुम को हम क्यों बन्द करेंगे आँखें
हम तो उजाले ढूँढ रहे थे, अँधेरा कर के

दुनिया के मुँह लगने का अञ्ज़ाम हुआ यह
उलटा पाठ पढ़ा डाला है - सीधा कर के

हर काहू की ख़िदमत हम से हो न सकेगी
चाकर हैं हम राधारानी के चाकर के

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

1 comment:

  1. चाकर हैं हम राधारानी के चाकर के--- सटीक...

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter