31 July 2014

जीवन व्यवहार - सदाचार - आनन्द मोहनलाल चतुर्वेदी

जीवन व्यवहार

धर्म का  अनुसरण  करे वो धार्मिक

धार्मिक  जातिओं में अगर गिनती शुरू की जाये तो , सबसे पहले ब्राह्मण समाज की गिनती होती है | जो धार्मिक क्रिया कलापो पर ही जीवन यापन करते है  | मानव मात्र अपने आप को जानें कि हम किन  संस्कारी महात्माओं के अंश है , उनके जीवन का किस तरह रहन-सहन-बर्ताव - जीवन शैली, करने न करने योग्य जो भी बातें थी ,वो सब किसी-न-किसी ग्रन्थ में  उल्लखित हैं |
                        
जैसे -- स्मृतियाँ ( ४५) - पुराण  ( 19 ) - धर्मसूत्र ( ६ ) - गृह्यसूत्र  ( ३ ) - उपनिषद्( ३) - ज्योतिष (२)  - आयुर्वेद ( ४)  - तंत्र ( ४) - नीति  ( ७) - विविध ( १५) --  [{ १) महाभारत  , २) वाल्मीक रामायण , ३) श्रीमद्भगवतगीता ,४)  धर्मसिन्धु ,५)  निर्णयसिंधु , ६) भगवन्तरभास्कर , ७) यतिधर्मसंग्रह , ८) प्रायश्चित्तेन्दुशेखर ,९) भर्तृहरिशतक , १०) कौशिक रामायण , ११) गुरुगीता , १२) वृद्धसूर्यारुणकर्मविपाक , १३) सिद्धसिद्धांतसंग्रह ,१४) सर्ववेदांतसिद्धांतसारसंग्रह , १५) किरातार्जुनीयम }]   लगभग १०५ ग्रंथों में से कुछ सूत्र निकले गए हैं , जिन्हे सहज में अपने पितृ अपनाते थे | जिसे एक नाम दिया जा सकता है - ""आचार-संहिता""

हिन्दू संस्कृति अत्यंत विलक्षण हैं | इसके सभी सिद्धांत पूर्णतः वैज्ञानिक और मानवमात्रकी लौकिक तथा पारलौकिक उन्नति करनेवाले है | मनुष्य मात्र का सुगमतासे एवं शीघ्रतासे कल्याण कैसे हो - इसका जितना गम्भीर विचार हिन्दू-संस्कृतिमें किया गया है, उतना अन्यत्र उपलब्ध नहीं होता | जन्म से लेकर मृत्युपर्यन्त मनुष्य जिन-जिन वस्तुओं एवं व्यक्यिओं के संपर्क में आता है और जो-जो क्रियाएँ करता हैं , उन सबको हमारे क्रांतिदर्शी ऋषि-मुनियोंने  बड़े वैज्ञानिक ढंग से सुनियोजित, मर्यादित एवं सुसंस्कृत किया है और सबका पर्यवसान परमश्रेयकी प्राप्ति  में किया है | इसलिए भगवानने गीता में बड़ें स्पष्ट शब्दों में कहा है ----
                  
य:     शास्त्रविधिमुत्सुज्य    वर्तते    कामकारत:  |
न  स  सिद्धिमवाप्नोति  न  सुखं  न  परां गतिम्  ||
तस्माच्छास्त्रं  प्रमाणं  ते  कार्याकार्यव्यवस्थितौ
ज्ञात्वा   शास्त्रविधानोक्त्तं     कर्म     कर्तुमिहर्हसि ||  ( गीता १६/२३-२४ )
                  
" जो मनुष्य  शास्त्रविधिको छोड़कर  अपनी इच्छासे मनमाना आचरण करता है , वह न सिद्धि (अन्तः करणकी सुद्धि) - को, न सुख (शान्ती) - को और न परमगति को ही प्राप्त होता है |. अतः तेरे लिये कर्तव्य-अकर्त्तव्यकी और व्यवस्थामें शास्त्र ही प्रमाण है- ऐसा जानकर तू इस लोकमें शास्त्रविधिसे नियत कर्तव्य -कर्म करनेयोग्य है अर्थार्त तुझे शास्त्रविधिके अनुसार कर्त्तव्य -कर्म करने चाहीये|”

तात्पर्य है क़ि हम 'क्या करें, क्या न करें ? - इसकी व्य्वस्थामें शास्त्र को ही प्रमाण मानना चाहीये | जो शास्त्र के अनुसार आचरण करते हैं, वे 'नर' होते हैं और जो मनके अनुसार (मनमाना) आचरण करते हैं, वे 'वानरहोते हैं -

मतयो  यत्र  गच्छन्ति  तत्र  गच्छन्ति वानराः .|
शस्त्राणि यत्र गच्छन्ति तत्र गच्छन्ति ते नराः .||

गीतामें भगवानने ऐसे मनमाना आचरण करनेवाले मनुष्योंको  'असुरकहा हैं|
प्रवृत्तिं च निवृत्तिं च जन न विदुरासुरा: |  ( गीता १६/७)

वर्तमान समय में उचित शिक्षा , संग , वातावरण आदि का अभाव होने से समाज में उच्छ्रंखलता बहुत बढ़ चुकी है | शास्त्र के अनुसार क्या करना चाहीये और क्या नहीं करना चाहीये    -  इस नयी  पीढ़ी  के  लोग जानते  भी नहीं और जानना चाहते भी नहीं | जो   शास्त्रीय  व्यवहार  जानते है , वे बताना चाहे  तो उनकी बात  न मानकर उनकी हंसी उड़ाते हैं | लोगों क़ि अवहेलना के कारण हमारे अनेकधर्मग्रन्थ लुप्त होते जा रहे है | जो ग्रन्थ उपलब्ध हैं , उनको पड़ने वाले भी बहुत कम हैं| पढ़ने की रुचि भी नहीं है और पढ़ने का समय भी नहीं है | शास्त्रों को जाननेवाले , बतानेवाले , और तदनुसार आचरण करने वाले सत्पुरुष दुर्लभ-से हो गए है | ऐसी परिस्थिति  में यह आवश्यक समझा गया क़ि एक ऐसे उपक्रम का का प्रयास किया जाये जिससे कि जिज्ञासु-जनों को शास्त्रों में आयी आचार-व्यवहार - सम्बन्धी आवश्यकबातों की जानकारी प्राप्त हो सके | इसी दिशा में यह प्रयत्न किया गया है |

शास्त्र अथाह समुद्र की भांति है| जो शास्त्र उपलब्ध हुए, उनका अवलोकन करके अपनी सीमितसामर्थ्य-समझ-योग्यता और समयानुसार जानकारी प्रस्तुत की गयी है| जिन बातों की जानकारी लोगों को कम है, उन बातों को मुख्यतय: प्रकाश में लाने की चेष्टा की गयी है| यद्यपि  पाठकों को कुछ बातें वर्तमान समय में अव्यवहारिक प्रतीत हो सकती है, तथापि अमुक विषय में शास्त्र क्या कहता हैं - इसकी जानकारी तो उन्हें हो  ही जायेगी| पाठकों से प्रार्थना है कि वे इन सूत्रो  को पढ़ें और इसमे आयी बातों को अपने जीवन में उतारने की चेष्टा करे| यह मात्र मेरा संकलन हैकोशिश की गयी है कि प्रत्येक क्रिया-कलाप, किये जाने वाले कर्म से सम्बंधित सूत्र एक साथ एकत्रित हो।

प्रथम कड़ी - सदाचार

1 शिक्षा , कल्प , निरुक्ति, छंद,व्याकरण और ज्योतिष - इन छ: अंगों सहित अध्यन किये  हुए  वेद भी आचारहीन मनुष्य को पवित्र नहीं कर सकते | मृत्युकाल मे आचारहीन मनुष्य को वेद वैसे ही छोड़ देते है ,जैसे पंख उगने पर पक्षी  अपने घौंसलेको | (वशिष्ठ स्मृति ६|, देवी भागवत ११ सदाचार - प्रशंसा /२/१)

2. मनुष्य आचार से आयु, अभिलषित संतान एवम अक्षय धन को प्राप्त करता है और आचार से अनिष्ट लक्षण को नष्ट कर देता है| (मनु स्मृति ४/१५६)

3. दुराचारी पुरुष संसार में निन्दित , सर्वदा दु:ख भागी , रोगी और अल्पायु होता है | (मनु स्मृति ४/१५७ ;वशिष्ठ स्मृति ६/६)

4. आचार ही धर्म को सफल बनाता है , आचार ही धनरूपी फल देता है, आचारसे मनुष्य को संपत्ति प्राप्त होती है और आचारही अशुभ लक्षणो का नाश कर देता है | (महाभारत, उद्धयोग . ११३/15)

5. " गौओं , मनुष्यों और धन से सम्पन्न होकर भी जो कुल सदाचार से हीन हैं, वे अच्छे कुलोंकी गणना में नहीं आ सकते | परन्तु थोड़े धनवाले कुल भी यदि सदाचार से सम्पन्न है तो वे अच्छी कुलोंकीगणनामें आ जाते हैं और महान यश प्राप्त करते है. (महाभारत उद्योग. ३६/२८-२९)

6.  " सदाचर की रक्षा यत्न पूर्वक करनी चाहिए | धन तो आता और जाता रहता है | धन क्षीण हो जानेपर भी सदाचारी मनुष्य क्षीण नहीं माना जाता ; किन्तु जो सदाचार से भ्रष्ट हो गया, उसे तो नष्ट ही समझाना चाहिए" | (महाभारत उद्योग. ३६/३०)

7. " मेरा ऐसा विचार है कि सदाचार से हीन मनुष्यका केवल ऊँचा कुल मान्य नहीं हो सकता; क्योकि नीच कुलमें उत्पन्न मनुष्यों का सदाचार श्रेष्ठ माना जाता है, | (महाभारत उद्योग ३४/४१)

8.  आचार से धर्म प्रकट होता है और धर्म के स्वामी भगवान विष्णु हैं | अत: जो अपने आश्रमके आचार में संलग्न है, उसके द्वारा भगवान श्रीहरि सर्वदा पूजित होते हैं | ( नारद पुराण , पूर्व. ४/२२)

9.  सदाचारी मनुष्य इहलोक और परलोक दौनौं को ही जीत लेता है | "सत" शब्दका अर्थ साधू है और साधू वही है, जो  दोषरहित हो | उस साधु पुरुष का जो आचरण होता है, उसीको सदाचार कहते हैं | ( विष्णु पुराण ३/११/२-३)

10.  आचारहीन मनुष्य संसार में निन्दित होताहै और परलोक मैं भी सुख नहीं पाता | इसलिए सबको आचारवान होना चाहिए | (शिवपुराण वा. उ. १४/५६)

11. "आचार से ही आयु , संतान तथा प्रचुर अन्न की उपलब्धि होती है | आचार संपूर्ण पातकों को दूर कर देता है| मनुष्यों के लिए आचार को कल्याणकारक परम धर्म माना गया है | आचारवान मनुष्य इस लोक में सुख भोगकर परलोक में सुखी होता है | (देवी भागवत ११/१/१०-११)

12. " (भगवान नारायण बोले -) नारद ! आचारवान मनुष्य सदा पवित्र, सदा सुखी, और सदा धन्य है - यह सत्य है, सत्य है |  ( देवी भागवत ११/२४/९८)


विनीत --  आनंद मोहनलाल चतुर्वेदी  ( नंदा ) 9022588880

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।