9 November 2010

धोनी की तकदीर चली, भाई बल्ले बल्ले

वी वी. एस. उड़ा दिए, न्यूजिलेंड के होश|
भज्जी में भी आ गया, उन्हें देख के जोश||
उन्हें देख के जोश, रोशनी ऐसी छाई|
कीवी ने दुम दुपका कर के जान बचाई|
फ़ील्डर-बौलर पस्त, पड़े ना कुछ भी पल्ले|
धोनी की तकदीर चली, भाई बल्ले बल्ले||

2 comments:

  1. अच्छी कुंडली है ... अब तो भज्जी की वाह वाह है .

    ReplyDelete
  2. जी दिगंबर भाई, भज्जी ही रहे हीरो पिछले मेच के| आपकी टिप्पणी के लिए आभार|

    ReplyDelete