30 November 2014

छन्द - मोहनान्शु रचित

मोहनान्शु रचित

बूझ-बूझ उत्तर जो हुआ मैं निरुत्तर तो
देख मेरे हाल को पहेली हँसने लगी

झुमका पहिन कान, सुरमा लगा के नैन
जैसे कोई दुल्हन नवेली हँसने लगी

भाग्य की रेखा में तुझे ढूँढ-ढूँढ थक गया
व्यंग्य कर मुझ पे हथेली हँसने लगी

बम-बम भोले सङ्ग जैसे ही गूँजी अजान
ऐसा लगा जैसे कि बरेली हँसने लगी

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter