8 August 2011

वो "राखी सरताज", बीस बहना हों जिस के


rakhi


बहना की दादागिरी, भैया की मनुहार|
ये सब ले कर आ रहा, राखी का त्यौहार||
राखी का त्यौहार, यार क्या कहने इस के|
वो "राखी सरताज", बीस बहना$ हों जिस के|
ठूँस-ठूँस तिरकोन*, मिठाई खाते रहना|
फिर से आई याद, हमें राखी औ बहना||

सबसे पूर्व सगी-बड़ी, बहना का अधिकार|
उस के पीछे साब जी, लाइन लगे अपार||
लाइन लगे अपार, तिलक लगवाते जाओ|
गिन गिन के फिर नोट, तुरंत थमाते जाओ| 
मॉडर्न डिवलपमेंट, हुआ भारत में जब से|
ये अनुपम आनंद, छिन गया, तब से, सब से|| @



*मथुरा में समोसे को तिरकोन कहा जाता है [त्रिकोण जैसा दिखने के कारण]

$ अपनी बहन, चाची, काकी, भुआ, मौसी और मामियों की लड़कियां मिला कर
बीस बहनें भी होती थीं किसी किसी के| और भुआयें अलग से - बोनस में|

@ सुख भरी यादों के बीच दुखांत तो है, पर समय की सच्चाई भी यही है

छन्द - कुण्डलिया 

17 comments:

  1. त्यौहार के बदलते मायने पर पारंपरिक छंद विधा में रचना अच्छी लगी.. पवन पर्व रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामना...

    ReplyDelete
  2. अब तो एक बहन भी मुश्किल से मिलती है ..अच्छी रचना

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. रचना अच्छी लगी पर यह तो लिखा ही नहीं कि इसमे कौनसा प्रयोग है |
    आशा

    ReplyDelete
  5. पुराना आनन्द त्योहारों का, कहाँ चला गया?

    ReplyDelete
  6. परिस्थितियों की मार कि एक बहन दक्षिण भारत में है तो दूसरी उत्तर में। और हम पूर्व भारत में। पता नहीं किसी से मिलना हो पाता है या नहीं।

    ReplyDelete
  7. दादागिरी शब्द का प्रयोग आपने किया है तो ... सोच कर ही किया होगा। पता नहीं क्यों इस संदर्भ में

    कुछ ये विचार मन में आ रहे हैं

    कि बंगाल में भाई को दादा कहते हैं तो उसके लिए ही दादागिरी उचित प्रतीत होता है। जब संदर्भ दीदी का है तो क्यॊं न आप दीदीगिरी शब्द का ईज़ाद कर कर देते हैं।

    ReplyDelete
  8. आद. मनोज जी आप का प्रस्ताव अच्छा है :)

    ReplyDelete
  9. Ek din to bahan ko dadagiri karne ko milta hai...
    badiya prastuti..

    ReplyDelete
  10. सुन्दर सामयिक प्रस्तुति ....
    बढ़िया कुण्डलियाँ ........

    ReplyDelete
  11. छंद महोत्सव में भी पढी यह कुण्डलिया...
    बहुत बढ़िया नवीन भईया...
    सादर...

    ReplyDelete
  12. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति...यादों को बहुत पीछे ले गयी..

    ReplyDelete
  13. दोनों ही कुंडलियाँ मन को भा गईं नवीन जी, इस पावन पर्व पर इन कुंडलियों के लिए बधाइ स्वीकार कीजिए।

    ReplyDelete
  14. बीते हुए दिनों की याद दिलाती हुई पोस्ट अच्छी लगी बधाई

    ReplyDelete
  15. मौके के अनुसार लिखना आसान नहीं ... पर आपके सामने कुछ मुश्किल भी तो नहीं नवीन जी ... मनभावन कुंडलियाँ ...

    ReplyDelete
  16. .


    नवीन जी ,

    सुंदर कुंडलियों के लिए बधाई !



    रक्षाबंधन की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete