17 April 2011

आय्पीयल [IPL] के खेल की बड़ी अनोखी रीत

आय्पीयल [IPL] के खेल की बड़ी अनोखी रीत|
सभी कमाते हैं यहाँ, हार मिले या जीत||
हार मिले या जीत, भींत से मत्था मारूँ|
धोनी-सचिन विरुद्ध, जभी युवराज निहारूँ|
हाँ पर ये भी बात, माननी होगी निश्छल|
गुमनामों के हेतु, श्रेष्ठ वर है आय्पीयल||

8 comments:

  1. WAH NAVIN JI AS USUAL A GOOD STROKE


    vipin k. chaturvedi

    ReplyDelete
  2. क्या बात है, सुंदर कुंडली। बधाई हो

    ReplyDelete
  3. क्या कुंडली मारी है, आई पी एल भी निहाल. जय हो.

    ReplyDelete
  4. Bohot sunder Naveen Ji. IPL pe bhi kundali maar di!!

    ReplyDelete
  5. सम्‍यक मूल्‍यांकन.

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया प्रवीण भाई, विपिन भाई, दिलबाग भाई, धर्मेन्द्र भाई, विशार भाई, रचना जी और राहुल जी

    ReplyDelete