30 November 2014

हम अगर चाहें तो बे-बात मचल सकते हैं - नवीन

हम अगर चाहें तो बे-बात मचल सकते हैं
और चाहें तो खिलौनों से बहल सकते हैं

उम्र बस इतनी समझ लीजे कि जब चाहें तब
पार्क में जा के फिसलनी पे फिसल सकते हैं

आप का ज़िक्र है सो बोल रहे हैं, वरना
लफ़्ज़ तो आँखों के रसते भी निकल सकते हैं

थक चुके ज़िस्म तो अब दौड़ लगाने से रहे
हाँ! मगर वक़्त की रफ़्तार बदल सकते हैं

दिल में संयम की अगर बर्फ़ जमा लें तो 'नवीन'

ऐन मुमकिन है कि सूरज को निकल सकते हैं

:- नवीन सी. चतुर्वेदी 

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन
2122 1122 1122 22

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter