31 July 2014

ओ विप्लव के थके साथियो - बलबीर सिंह रङ्ग

ओ विप्लव के थके साथियो
विजय मिली – विश्राम न समझो

उदित प्रभात हुआ है फिर भी
छाई चारों ओर उदासी
ऊपर मेघ भरे बैठे हैं
किन्तु धरा प्यासी की प्यासी
जब तक सुख के स्वप्न अधूरे
पूरा अपना काम न समझो
विजय मिली – विश्राम न समझो

पदलोलुपता और त्याग का
एकाकार नहीं होने का
दो नावों पर पग धरने से
सागर पार नहीं होने का
युगारम्भ के प्रथम चरण की
गतिविधि को – परिणाम न समझो
विजय मिली – विश्राम न समझो

तुमने वज्र-प्रहार किया था
पराधीनता की छाती पर
देखो आँच न आने पाये
जन-जन की सौंपी थाती पर
समर शेष है – सजग देश है
सचमुच युद्धविराम न समझो

विजय मिली – विश्राम न समझो

:- बलबीर सिंह रङ्ग

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter