28 February 2014

हाइकु - विभा रानी श्रीवास्तव

ज्ञान का लोप
पाशविकाचरण
मृत समाज

गिरि वसन 
धूसर अँगरखा 
उजली टोपी 

4 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया और आभार आपलोगो का

      Delete
  2. भाव और समर्थ मानस का विभव दिखा इन हाइकू में – मेरा मानना सही सबित हुआ कि अच्छे हाइकू कहने वाले की आइक्यू ज़ियादा होती है – हाथ कंगन को आरसी क्या !!! विभा जी बहुत बहुत बधाई –गागर में सागर भर दिया आपने !! –मयंक

    ReplyDelete



  3. बढ़िया प्रस्तुति !

    श्रेष्ठ हाइकु हैं...

    ReplyDelete