18 November 2013

बाकी सब साँचे ह्वै गए -नवीन

बाकी सब साँचे ह्वै गए
मतबल हम झूठे ह्वै गए

कैसे-कैसे हते दल्लान
अब तौ बँटबारे ह्वै गए

सब कूँ अलग्गइ रहनौ हतो
देख ल्यो घर महँगे ह्वै गए

इतने बरस बाद आए हौ
आईने सीसे ह्वै गए

बाँधन सूँ छूट्यौ पानी
खेतन में नाले ह्वै गए

हाथ बँटान लगी औलाद
कछुक दरद हल्के ह्वै गए

गिनबे बैठे तिहारे करम
पोरन में छाले ह्वै गए

घर कौ रसता सूझत नाँय 
हम सच में अन्धे ह्वै गए


:- नवीन सी. चतुर्वेदी




बाकी सब सच्चे हो गये
मतलब हम झूठे हो गये

कैसे-कैसे थे दालान
अब तौ बँटवारे हो गये

सब को अलहदा रहना था
देख लो घर महँगे हो गये

कहाँ रहे तुम इतने साल
आईने शीशे हो गये

बाँधों से छूटा पानी
खेतों में नाले हो गये

हाथ बँटाने लगी औलाद
दर्द ज़रा हल्के हो गये

गिनने बैठे करम उस के

पोरोन में छाले हो गये

No comments:

Post a Comment