18 November 2013

बाकी सब साँचे ह्वै गए -नवीन

बाकी सब साँचे ह्वै गए
मतबल हम झूठे ह्वै गए

कैसे-कैसे हते दल्लान
अब तौ बँटबारे ह्वै गए

सब कूँ अलग्गइ रहनौ हतो
देख ल्यो घर महँगे ह्वै गए

इतने बरस बाद आए हौ
आईने सीसे ह्वै गए

बाँधन सूँ छूट्यौ पानी
खेतन में नाले ह्वै गए

हाथ बँटान लगी औलाद
कछुक दरद हल्के ह्वै गए

गिनबे बैठे तिहारे करम
पोरन में छाले ह्वै गए

घर कौ रसता सूझत नाँय 
हम सच में अन्धे ह्वै गए


:- नवीन सी. चतुर्वेदी




बाकी सब सच्चे हो गये
मतलब हम झूठे हो गये

कैसे-कैसे थे दालान
अब तौ बँटवारे हो गये

सब को अलहदा रहना था
देख लो घर महँगे हो गये

कहाँ रहे तुम इतने साल
आईने शीशे हो गये

बाँधों से छूटा पानी
खेतों में नाले हो गये

हाथ बँटाने लगी औलाद
दर्द ज़रा हल्के हो गये

गिनने बैठे करम उस के

पोरोन में छाले हो गये

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter