27 February 2013

महफ़िलों को गुज़ार पाये हम - नवीन

महफ़िलों को गुज़ार पाये हम
तब कहीं ख़लवतों पे छाये हम

हैं उदासी के कोख-जाये हम
ज़िन्दगी को न रास आये हम

खाद-पानी बना दिया ख़ुद को
सिलसिलेवार लहलहाये हम

नस्ल तारों की जिद लगा बैठी
इस्तआरे उतार लाये हम

 रूह के होंठ सिल के ही माने
हरकतों से न बाज़ आये हम

फ़र्ज़ हम पर है रौशनी का सफ़र
नूर की छूट के हैं जाये हम

‘प्यास’ को ‘प्यार’ करना था केवल
एक अक्षर बदल न पाये हम

बस हमारे ही साथ रहती है
क्यों उदासी को इतना भाये हम

अब तो सब को ही मिलना है हमसे
छायीं तनहाइयाँ, कि छाये हम

शहर में आ के वो चला भी गया

थे पराये, रहे पराये हम


:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरेख़फ़ीफ़ मुसद्दस मख़्बून
फ़ाएलातुन मुफ़ाएलुन फ़ालुन
2122 1212 22

1 comment:

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter