16 October 2010

वो है भगवान इन्सान के रूप में

सब के दिल में रहे, सबको सजदा करे, 
वो है भगवान इन्सान के रूप में|
जो बिना स्वार्थ खुशियाँ लुटाया करे, 
वो है भगवान इन्सान के रूप में||

अपने माँ-बाप का, बीबी-औलाद का, 
ख्याल रखते हैं सब, इसमें क्या है नया|
दूसरे लोगों की भी जो सेवा करे, 
वो है भगवान इन्सान के रूप में||

ये ही दुनिया का दस्तूर है दोस्तो, 
काबिलों को ही दिल से लगाते सभी,
हौसला हर किसी को जो बख्शा करे, 
वो है भगवान इन्सान के रूप में||

दायरों से न जिसका सरोकार हो, 
मामलों की न परवा करे जो कभी|
मुस्कुराहट के मोती पिरोता रहे, 
वो है भगवान इन्सान के रूप में||

9 comments:

  1. दायरों से न जिसका सरोकार हो,
    मामलों की न परवा करे जो कभी|
    मुस्कुराहट के मोती पिरोता रहे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप में||

    बिलकुल सही कहा सर!
    एक पंक्ति बहुत ही खूबसूरत है।

    सादर

    ReplyDelete
  2. अपने माँ-बाप का, बीबी-औलाद का,
    ख्याल रखते हैं सब, इसमें क्या है नया|
    दूसरे लोगों की भी जो सेवा करे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप में||

    ...बहुत प्रेरक और सारगर्भित प्रस्तुति..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. दायरों से न जिसका सरोकार हो,
    मामलों की न परवा करे जो कभी|
    मुस्कुराहट के मोती पिरोता रहे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप ...बहुत सही कहा..सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  4. दायरों से न जिसका सरोकार हो,
    मामलों की न परवा करे जो कभी|
    मुस्कुराहट के मोती पिरोता रहे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप

    vah

    ReplyDelete
  5. कल 18/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. इंसान के रूप में भगवान की छवि कुछ ऐसी ही होगी!

    ReplyDelete
  7. इंसान के रूप मैं भगवान होना आसान नहीं है

    सब के दिल में रहे, सबको सजदा करे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप में|
    जो बिना स्वार्थ खुशियाँ लुटाया करे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप में||

    ReplyDelete
  8. अपने माँ-बाप का, बीबी-औलाद का,
    ख्याल रखते हैं सब, इसमें क्या है नया|
    दूसरे लोगों की भी जो सेवा करे,
    वो है भगवान इन्सान के रूप में||

    बहुत सच बात है ..सुन्दर रचना ..
    आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सन्देश देती अच्छी रचना

    ReplyDelete