12 August 2016

कुण्डलिया - त्रिलोक सिंह ठकुरेला

चलते  चलते एक  दिन ,तट पर  लगती नाव।
मिल जाता  है सब  उसे , हो जिसके  मन  चाव ।।
हो जिसके मन चाव , कोशिशें सफल  करातीं ।
लगे  रहो अविराम , सभी निधि दौड़ी आतीं ।
'ठकुरेला' कविराय ,आलसी निज  कर  मलते ।
पा लेते  गंतव्य ,  सुधीजन चलते  चलते ।।

कामी भजे शरीर को  , लोभी भजता दाम ।
पर  उसका कल्याण  है , जो भज  लेता राम ।।
जो भज  लेता राम ,दोष निज मन के  हरता ।
सुबह  शाम अविराम , काम परहित के  करता।
'ठकुरेला'  कविराय ,बनें  सच  के  अनुगामी।
सच का बेड़ा पार , तरे  अति  लोभी ,  कामी ।।

नहीं समझता मंदमति , समझाओ सौ  बार ।
मूरख से   पाला  पड़े , चुप   रहने में  सार ।।
चुप  रहने में  सार ,कठिन  इनको समझाना ।
जब भी जिद लें ठान , हारता सकल  ज़माना ।
'ठकुरेला' कविराय , समय  का  डंडा बजता ।
करो  कोशिशें लाख , मंदमति नहीं  समझता ।।

धन  की  है महिमा  अमित , सभी  समेटें अंक ।
पाकर   बौरायें   सभी , राजा  हो  या  रंक ।।
राजा हो या रंक , सभी  इस  धन पर  मरते ।
धन की खातिर लोग , न  जाने  क्या क्या  करते ।
'ठकुरेला' कविराय ,कामना यह  हर जन की ।
जीवन भर बरसात , रहे  उसके घर  धन की  ।।

दुविधा में जीवन कटे ,पास  न  हों  यदि  दाम ।
रूपया पैसे  से  जुटें , घर की चीज  तमाम ।।
घर की चीज तमाम ,दाम ही सब कुछ भैया ।
मेला लगे  उदास , न  हों यदि पास रुपैया ।
'ठकुरेला'  कविराय , दाम से मिलती सुविधा ।
बिना दाम  के  मीत ,जगत  में  सौ सौ दुविधा ।।

उपयोगी हैं साथियो ,जग की चीज तमाम ।
पर  यह दीगर बात है, कब, किससे हो काम ।।
कब , किससे हो काम , जरूरत  जब  पड़ जाये।
किसका क्या उपयोग , समझ में तब ही आये ।
'ठकुरेला' कविराय , जानते   ज्ञानी , योगी ।
कुछ  भी  नहीं असार , जगत  में  सब  उपयोगी ।।

पल पल जीवन जा रहा , कुछ तो कर शुभ काम।
जाना हाथ पसार कर ,  साथ न चले  छदाम ।।
साथ न चले  छदाम , दे  रहे  खुद हो  धोखा ।
चित्रगुप्त   के पास , कर्म   का  लेखा जोखा ।।
'ठकुरेला' कविराय ,छोड़िये सभी कपट , छल ।
काम करो जी नेक , जा रहा जीवन पल पल ।।

यह जीवन  है बाँसुरी ,  खाली खाली मीत ।
श्रम से  इसे  संवारिये , बजे  मधुर  संगीत ।।
बजे  मधुर  संगीत , ख़ुशी से सबको भर  दे ।
थिरकेँ सब  के पाँव , हृदय को झंकृत कर दे ।
'ठकुरेला' कविराय , महकने  लगता तन मन ।
श्रम  के  खिलें  प्रसून , मुस्कराता  यह  जीवन ।।

---   त्रिलोक सिंह ठकुरेला

मो . 09460714267

कुण्डलिया छन्द 


No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।