1 June 2014

पाँच गीत - शैलेन्द्र



हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें
हम दर्द के सुर में गाते हैं
जब हद से गुज़र जाती है ख़ुशी
आँसू भी छलकते आते हैं
हैं सबसे मधुर...

काँटों में खिले हैं फूल हमारे
रंग भरे अरमानों के
नादान हैं जो इन काँटों से
दामन को बचाए जाते हैं
हैं सबसे मधुर...

जब ग़म का अन्धेरा घिर आए
समझो के सवेरा दूर नहीं
हर रात का है पैगाम यही
तारे भी यही दोहराते हैं
हैं सबसे मधुर...

पहलू में पराए दर्द बसा के
हँसना हँसाना सीख ज़रा
तूफ़ान से कह दे घिर के उठे
हम प्यार के दीप जलाते हैं
हैं सबसे मधुर...



हर ज़ोर जुल्म की टक्कर मेंहड़ताल हमारा नारा है !

तुमने माँगे ठुकराई हैंतुमने तोड़ा है हर वादा
छीनी हमसे सस्ती चीज़ेंतुम छंटनी पर हो आमादा
तो अपनी भी तैयारी हैतो हमने भी ललकारा है
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर में हड़ताल हमारा नारा है !

मत करो बहाने संकट हैमुद्रा-प्रसार इंफ्लेशन है
इन बनियों चोर-लुटेरों को क्या सरकारी कन्सेशन है
बगलें मत झाँकोदो जवाब क्या यही स्वराज्य तुम्हारा है?
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर में हड़ताल हमारा नारा है !

मत समझो हमको याद नहीं हैं जून छियालिस की रातें
जब काले-गोरे बनियों में चलती थीं सौदों की बातें
रह गई ग़ुलामी बरकरार हम समझे अब छुटकारा है
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर हड़ताल हमारा नारा है !

क्या धमकी देते हो साहबदमदांटी में क्या रक्खा है
वह वार तुम्हारे अग्रज अँग्रज़ों ने भी तो चक्खा है
दहला था सारा साम्राज्य जो तुमको इतना प्यारा है
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर में हड़ताल हमारा नारा है !

समझौता ? कैसा समझौता ? हमला तो तुमने बोला है
महंगी ने हमें निगलने को दानव जैसा मुँह खोला है
हम मौत के जबड़े तोड़ेंगेएका हथियार हमारा है
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर हड़ताल हमारा नारा है !

अब संभले समझौता-परस्त घुटना-टेकू ढुलमुल-यकीन
हम सब समझौतेबाज़ों को अब अलग करेंगे बीन-बीन
जो रोकेगा वह जाएगायह वह तूफ़ानी धारा है
हर ज़ोर जुल्म की टक्कर में हड़ताल हमारा नारा है !






भगतसिंह ! इस बार न लेना काया भारतवासी की,
देशभक्ति के लिए आज भी सज़ा मिलेगी फाँसी की !

यदि जनता की बात करोगेतुम गद्दार कहाओगे--
बम्ब सम्ब की छोड़ोभाषण दिया कि पकड़े जाओगे !
निकला है कानून नयाचुटकी बजते बँध जाओगे,
न्याय अदालत की मत पूछोसीधे मुक्ति पाओगे,
काँग्रेस का हुक्मज़रूरत क्या वारंट तलाशी की !

मत समझोपूजे जाओगे क्योंकि लड़े थे दुश्मन से,
रुत ऐसी है आँख लड़ी है अब दिल्ली की लंदन से,
कामनवैल्थ कुटुम्ब देश को खींच रहा है मंतर से--
प्रेम विभोर हुए नेतागणनीरा बरसी अंबर से,
भोगी हुए वियोगीदुनिया बदल गई बनवासी की !

गढ़वाली जिसने अँग्रेज़ी शासन से विद्रोह किया,
महाक्रान्ति के दूत जिन्होंने नहीं जान का मोह किया,
अब भी जेलों में सड़ते हैंन्यू-माडल आज़ादी है,
बैठ गए हैं कालेपर गोरे ज़ुल्मों की गादी है,
वही रीति हैवही नीति हैगोरे सत्यानाशी की !

सत्य अहिंसा का शासन हैराम-राज्य फिर आया है,
भेड़-भेड़िए एक घाट हैंसब ईश्वर की माया है !
दुश्मन ही जब अपनाटीपू जैसों का क्या करना है ?
शान्ति सुरक्षा की ख़ातिर हर हिम्मतवर से डरना है !
पहनेगी हथकड़ी भवानी रानी लक्ष्मी झाँसी की !






मुझको भी इंग्लैंड ले चलोपण्डित जी महराज,
देखूँ रानी के सिर कैसे धरा जाएगा ताज !

बुरी घड़ी में मैं जन्मा जब राजे और नवाब,
तारे गिन-गिन बीन रहे थे अपने टूटे ख़्वाब,
कभी न देखा हरमचपल छ्प्पन छुरियों का नाच,
कलजुग की औलादमिली है किस्मत बड़ी ख़राब,
दादी मर गईकर गई रूप कथा से भी मुहताज !

तुम जिनके जाते हो उनका बहुत सुना है नाम,
सुनता हूँउस एक छत्र में कभी न होती शाम,
कालेपीलेगोरेभूरेउनके अनगिन दास,
साथ किसी के साझेदारी औकोई बेदाम,
ख़ुश होकर वे लोगों को दे देती हैं सौराज !

उनका कामनवैल्थ कि जैसे दोधारी तलवार,
एक वार से हमें जिलावें , करें एक से ठार,
घटे पौण्ड की पूँछ पकड़ कर रुपया माँगे भीख,
आग उगलती तोप कहीं परकहीं शुद्ध व्यापार,
कहीं मलाया और कहीं सर्वोदय सुखी समाज !

रूमानी कविता लिखता था सो अब लिखी न जाए,
चारों ओर अकालजिऊँ मैं कागद-पत्तर खाय?
मुझे साथ ले चलो कि शायद मिले नई स्फूर्ति,
बलिहारी वह दॄश्यकल्पना अधर-अधर लहराए--
साम्राज्य के मंगल तिलक लगाएगा सौराज  !




टीन कनस्तर पीट-पीट कर गला फाड़ कर चिल्लाना
यार मेरे मत बुरा मान ये गाना है न बजाना है
नाच के बदले कमर नचाना उछल के सर्कस दिखलाना
भूल है तेरी तू समझा है दुनिया पागलखाना है

उधर से लेकर इधर जमा कर कब तक काम चलाओगे
किसका रहा ज़माना इक दिन महफ़िल से उठ जाओगे
नकल का धंधा चल नहीं सकता इक दिन तो पछताना है

भूल गया तू तानसेन की तान यही पर गूँजी थी
सुर के जादूगर बैजू की शान यहीं पर गूँजी थी
मर के अमर है सहगल उसका हर कोई दीवाना है



अमर गीतकार शैलेन्द्र को सादर वन्दन सहित


1 comment:

  1. शैलेन्द्र किसी भी तथाकथित साहित्यिक कवि से बड़े कवि हैं... जन जन के कवि।

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter