1 June 2014

राजस्थानी गजल - राजेन्द्र स्वर्णकार


हवा में ज़ैर रळग्यो , सून सगळां गांव घर लागै
अठीनैं कीं कसर लागै , बठीनैं कीं कसर लागै

शकल सूं नीं पिछाणीजै इणां री घात मनड़ै री
किंयां अळगां री ठा' जद कै , न नैड़ां री ख़बर लागै

कठै ऐ पूंछ हिलकावै , कठै चरणां में लुट जावै
ऐ मुतळब सूं इंयां डोलै , कॅ ऐ डुलता चंवर लागै

किचर न्हाखै मिनख - ढांढा  चलावै कार इण तरियां
सड़क ज्यूं बाप री इणरै ; ऐ नेतां रा कुंवर लागै

निकळ' टीवी सूं घुसगी नेट में आ , आज री पीढ़ी
बिसरगी संस्कृती अर सभ्यता , जद श्राप वर लागै

अठै रै सूर सूं मिलतो जगत नैं चांनणो पैलां
अबै इण देश , चौतरफै धुंवो कळमष धंवर लागै

जगत सूं जूझसी राजिंद , कलम ! सागो निभा दीजे
कथां रळ' साच , आपांनैं किस्यो किण सूं ई डर लागै

-----

* राजस्थानी ग़ज़ल में प्रयुक्त शब्दों के अर्थ *

ज़ैर रळग्यो = ज़हर घुल गया /, सून = सुनसान /, सगळां = समस्त् /, लागै = लगता है – लगती है - लगते हैं /, अठीनैं = इधर /, बठीनैं = उधर /, कीं = कुछ, नीं पिछाणीजै = नहीं पहचानी जाती है /, इणां री = इनकी /, घात मनड़ै री = मन की घात /, किंयां = कैसे /, अळगां री = दूरस्थ की /, ठा' = मा'लूम - जानकारी होना /, नैड़ां री = समीपस्थ की /, कठै = कहीं - कहां /, ऐ = ये /, डुलता चंवर = गुरुद्वारों में गुरु ग्रंथसाहिब तथा मंदिर में ठाकुरजी के आगे डुलाया जाने वाला चंवर, किचर न्हाखै = कुचल देते हैं /, मिनख - ढांढा = मनुष्य - पशु /, जद = तब /, अठै रै सूर सूं = यहां के सूर्य से /, चांनणो = प्रकाश /, पैलां = पहले /, चौतरफै = चारों तरफ़ /, धुंवो कळमष धंवर = धुआं कल्मष धुंध /, सागो निभा दीजे = साथ निभा देना /, कथां रळ' साच = मिल कर सत्य - सृजन करें /, आपांनैं = हमको - हमें /, किस्यो किण सूं ई = कौनसा किसी से भी /


राजेन्द्र स्वर्णकार
9414682626


बहरे हजज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222 1222


No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।