30 April 2014

वृक्ष की नियति - तारादत्त निर्विरोध

उसने सूने-जङ्गलाती क्षेत्र में 

एक पौधा रोपा 

और हवाओं से कहा,

इसे पनपने देना

जब विश्वास का मौसम आएगा 
यह विवेक के साथ विकसित होकर 
अपने पाँवों पर खडा होगा
एक दिन यह जरूर बडा होगा। 
फिर उसने 
मानसून की गीली आँखों में 
हिलती हुई जडों 
फरफराते पत्तों 
और लदी लरजती शाखों के 
फलों को दिखा कर कहा
मौसम चाहे कितने ही रूप बदले 
यह वृक्ष नहीं गिरना चाहिए 
और यह भी नहीं कि कोई इसे 
समूल काट दे
संबंधों की गंध के नाम पर 
बाँट दे
तुम्हें वृक्ष को खडा ही रखना है
प्रतिकूल हवाओं में भी 
बडा ही रखना है। 
एक अन्तराल के बाद 
वृक्ष प्रेम पाकर जिया 
और उसने बाद की पीढयों को भी 
पनपने दिया। 
वृक्ष और भी लगाए गए
वृक्षारोपण के लिए 
सभी के मन जगाए गए। 
फिर एक दिन ऐसा आया 
वृक्ष की शाखों को काट ले गए 
लोग
पत्तों से जुड गए अभाव-अभियोग
एक बूढा वृक्ष गिर-खिर गया
युगों-युगों का सपना 
आँखों में पला, तिरा 
और पारे की तरह 
बिखर गया।
:- तारादत्त निर्विरोध

1 comment:

  1. विषय पर केन्द्रित बेहतरीन रचना

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।