30 March 2014

आज मन अतुकान्त है - मोहनांशु रचित

आज मन अतुकान्त है
दोहा और रोला की खीञ्चतान में
कुण्डली मार के बैठी हैं उमीदें

तुम्हारी यादों का मौसमी कुहासा
नज़्म की तरह
धीरे-धीरे
मुझे अपने आगोश मेँ ले रहा है

और मैं 

अमृत-ध्वनि छन्द की तरह
अपने ही तानेबाने में फँसा हुआ सा

जीवन के नवगीत में
पिङ्गल के नियमों की
व्यर्थ तलाश करता हुआ सा

तुम्हारे जूडे के लिये
दोहों के चार फूल चुनता हुआ सा
हूँ

ठीक उसी वक्त
तुम न जाने कहाँ से ले आती हो
तीन वल्लरियाँ
हाइकु की
अपने जूड़े मे गुँथवाने के लिए हमेशा की तरह

और अपने हाथों से
तुम्हारे जूड़े में
अपने लाये हुये फूल टाँकने की मेरी इच्छा
किसी क्लिष्ट गूढ पद के अर्थ की तरह
मुझे उलझा जाती है
फिर से

कभी-कभी लगता है
ज़िन्दगी की ग़ज़ल में
तुम मतला हो 
और 
मैं मक्ता
हमेशा एकसाथ
मगर मिलाप कभी नहीं

एकदूजे की ख़ैरियत के लिये भी
हम निर्भर हैं
कभी दल-बदलू काफ़ियों पर
तो कभी अडियल रदीफ़ पर

मैं भी चाहता हूँ
जीवन चौपाई छन्द जैसा मधुर 
और
मनहर कवित्त सा मनोरम हो
लेकिन शायद
हमदोनों देवनागरी के ऐसे गुरु-वर्ण हैं
जो कि प्रतिबध्द हैं 
पञ्चचामर छन्द में क्रमिक आवृत्ति के लिये
यानि हर बार 
हम दौनों के बीच में 
एक लघु का होना अपरिहार्य है

ऐसा लगता है 
शायद विधना ने
हमारा मिलन
उस दिन के लिये फ़िक्स कर दिया है
जिस दिन
छन्दों के फूल
हाइकु की वल्लरियाँ
शेरों की सुगन्ध
और
नज़्मों की नज़ाकत

दूर न होगी कविता और कहानी के कथानक से

6 comments:

  1. तुम मतला हो
    और
    मैं मक्ता
    हमेशा एकसाथ
    मगर मिलाप कभी नहीं
    ---क्या बात है ...अति सुन्दर ...

    छन्दों के फूल
    हाइकु की वल्लरियाँ
    शेरों की सुगन्ध
    और
    नज़्मों की नज़ाकत

    दूर न होगी कविता और कहानी के कथानक से..
    ---- और भे सुन्दर व सटीक, सार्थक......

    ReplyDelete
  2. सौंधास भरी और बहुत ही मीठी; मगर पंक्तियों के बीच अनेकानेक गहन अर्थ समेटे ऐसी नज़्म / कविता शायद पहली बार पढ़ रहा हूँ । जीते रहिये रचित।

    ReplyDelete
  3. दादा आपकी हौसलाअफजाई और मार्गदर्शन के लिये बहुत आभारी हूं

    ReplyDelete
  4. मोहनांशु रचित—भाई !! आप तो छा गये !! इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति !! कमाल है !! हर पंक्ति हरसिंगार की डाली है—इस कविता में –सचमुच इस सार्थक अभिव्यक्ति ने मन मोह लिया –मयंक

    ReplyDelete
  5. बहुत धन्यवाद मयंक भईया। आपसे प्रशंसा पाकर अभीभूत हूं ।

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।