29 March 2014

अवधी गजल - जन गण मन अधिनायक होइगा। - अशोक अज्ञानी

जन गण मन अधिनायक होइगा।
गुण्डा    रहै,    विधायक   होइगा।

पढ़े – लिखे    करमन   का   र्‌वावैं,
बिना  पढ़ा   सब  लायक  होइगा।

जीवन  भर  अपराध  किहिस जो,
राम   नाम  गुण  गायक  होइगा।

कुरसी  केरि  हनक  मिलतै  खन,
कूकुर    सेरु   यकायक    होइगा।

गवा  गाँव  ते  जीति  केलेकिन
सहरन   का   परिचायक होइगा।

वादा    कइके    गा    जनता   ते,
च्वारन  क्यार सहायक होइगा।

जेहि   पर   रहै   भरोसा  सबका,
अग्यानी’   दुखदायक   होइगा।


ग़ज़लकार  अशोक ‘अग्यानी’
प्रस्तुति - धर्मेन्द्र कुमार सज्जन

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter