11 March 2011

बरसाने की लठामार होली

महीना पच्चीस दिन दूध-घी उड़ामें और  
जाय कें अखाडें दण्ड-बैठक लगामें हैं|
 
मूछन पे ताव दै कें जङ्घन पे ताल दै कें
नुक्कड़-अथाँइन पे गाल हू बजामें हैं|
 
पिछले बरस बारौ बदलौ चुकामनौ है,
पूछ मत कैसी-कैसी योजना बनामें हैं|
 
लेकिन बिचारे बीर बरसाने पौंचते ही,
लट्ठ खाय गोपिन सों घर लौट आमें हैं||

19 comments:

  1. होली की शुभकामनाएं।
    आपने तो अभी से होली की उमंग ला दिया।

    ReplyDelete
  2. बरसाने की होली का जीवंत चित्रण !
    आद. नवीन जी, इस सुन्दर रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें !
    आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना..मेरा भी सम्बन्ध मथुरा से होने के कारण, ब्रजभाषा में रचना पढ़ कर बहुत अपनापन लगा..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चित्रण बरसाने कि होली का ...सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. बड़ी ही रोचक लगती है वह होली, सुन्दर कविता।

    ReplyDelete
  6. होली का रोचक चित्रण किया है शब्दों से। बधाई आपकोा।

    ReplyDelete
  7. अतुल श्रीवास्तव जी आप को भी होली की अग्रिम शुभ कामनाएँ| हमारे ब्रज में तो फागुन लगते ही होली वाला माहौल हो जाता है|

    ReplyDelete
  8. भाई ज्ञान चंद्र मर्मज्ञ जी आभार

    ReplyDelete
  9. भाई कैलाश शर्मा जी आप भी मथुरा से हैं ये जान कर अत्यधिक प्रसन्नता हुई| आप तो फिर बरसाने की होली का प्रत्यक्ष आनंद ले चुके होंगे| सराहना के लिए सहृदय आभार|

    ReplyDelete
  10. आदरणीया संगीता स्वरूप जी सराहना के लिए बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  11. भाई प्रवीण पाण्‍डेय जी घांकाक्षरी कवित्तों की सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. भाई रजनीश तिवारी जी सराहना के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. आदरणीया निर्मला कपिला जी आपका आशीष पाना सदैव ही आनंद दायक होता है मेरे लिए

    ReplyDelete
  14. अरे वाह होली की मजेदार कविता..... सुंदर

    ReplyDelete
  15. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 15 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  16. आभार चैतन्यशर्मा जी

    ReplyDelete
  17. आदरणीया सांगीता स्वरूप जी मेरे प्रयास को चर्चा का हिस्सा बनाने के लिए आभार

    ReplyDelete