13 August 2016

जोस भरी जनता नें भारत की जेलें भरीं - भगवान दत्त चतुर्वेदी

फोटो में श्री भगवान दत्त जी के साथ लोकर्षि श्री राजेन्द्र रंजन जी [खड़े हुये]
श्री राजेन्द्र रंजन जी का युवावस्था का फोटो है यह

घनाक्षरी छन्द

लाखन की गिनती में जनता नें जेलें भरीं ,
तरस रहे हे कैदी वस्त्र-तसलान कों ।

डेरन में ढेरन कंटीले तार-घेरन में,
भेरन की भांति बंद कियौ इनसान कों।

रूखी दार-रोटिन की बात मत पूंछौ कछू,
तडप रहे हे कहूं कैदी जल-पान कों।

भूख सही प्यास सही गन्दगी की बास सही,
पै न तजी दासता निबारन की बान कों।


“““““““‘


जोस भरी जनता नें भारत की जेलें भरीं,
रेलें भरी बन्दिन के भारी यातायात सों।

होडाहोडी कोडा सहे , छातिन पै घोडा सहे,
रोडा कुटबाये गये छाले भरे हाथ सों।

हथकडी-बेडी सही, आंख-भोंह टेढी सहीं ,
भीत हू भये न रंच बंदी पद-घात सों ।

कष्ट कारागार के कठोर सों कठोर सहे ,
पै न हटे पीछें देशभक्त निज बात सों ।

स्व. श्री भगवानदत्त चतुर्वेदी

सौजन्य : श्री राजेन्द्र रंजन जी

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।