10 November 2013

वो जो रुत जवाँ थी हम से, वो ही रुत सजा दुबारा - नवीन

वो जो रुत जवाँ थी हम से, वो ही रुत सजा दुबारा।
उसी रात की क़सम है, वो ही गीत गा दुबारा॥



वो जो बेक़रारियाँ थीं, वो ही ढो रही थीं मुझ को॥
ये सुकूँ है मेरा दुश्मन, मेरा दिल दुखा दुबारा॥



कहाँ गुल किसी चमन के, ग़मेदिल को जानते हैं।
वो जवाब दे ही देता, मैं जो पूछता दुबारा॥



बड़ी मुश्किलों से मैंने, शम्मओं के सर ढँके थे।
मेरे सर पे आ पड़ा है, वो ही मसअला दुबारा॥



तेरे दर पे सर टिका कर, तुझे सौंपना है ख़ुद को।
मैं भटक गया हूँ रस्ता, मुझे दे पता दुबारा॥




:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे रमल मुसम्मन मशकूल सालिम मज़ाइफ़ [दोगुन]
फ़एलातु फ़ाएलातुन फ़एलातु फ़ाएलातुन 
1121 2122 1121 2212 

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter