28 May 2013

सच तभी हैं कि जब कोई माने- नवीन


जनाब शकेब ज़लाली साहब की ज़मीन कोई इस दिल का हाल क्या जाने’ पर एक कोशिश


सच तभी हैं कि जब कोई माने।
वरना झूठे हैं सारे अफ़साने॥



यह भी उलफ़त का ही करिश्मा है।
दर-ब-दर हो गये हैं दीवाने॥



इल्म जिन को नहीं पिलाने का।
भाड़ में जाएँ ऐसे पैमाने॥



हम ने बख़्शा ही क्या है लोगों को।
क्यों भला कोई हम को पहिचाने॥



यों ही थोड़ा ही जोश में है वह।
सर किये हैं सराब दरिया ने॥



अब तो बेगाने भी न काम आयें।
इस क़दर छल किये हैं दुनिया ने॥



मुठ्ठियाँ खुलती जा रही हैं रोज़।
लाज़िमी हो गये हैं तहखाने॥


सराब – मृगतृष्णा;






:- नवीन सी. चतुर्वेदी


बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मखबून
फाएलातुन मुफ़ाएलुन फालुन

2122 1212 22

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter